अभी भी बर्फ से लबालब है हेमकुंड साहिब, जमी दस फीट मोटी बर्फ

0
273

गोपेश्वर : इस बार यात्रा सीजन के दौरान बदरीनाथ धाम में बर्फ देखने को नहीं मिलेगी, जबकि हेमकुंड साहिब बर्फ से लबालब है और अब भी वहां दस फीट बर्फ जमी है।

हेमकुंड सरोवर का तो बर्फ के बीच नामोनिशान तक नजर नहीं आ रहा। हेमकुंड साहिब में प्रतिवर्ष रास्ता निर्माण और बर्फ हटाने का काम करने वाले सेना के अधिकारियों ने 25 अप्रैल से कार्य शुरू करने का निर्णय लिया है। इसके एक महीने बाद 25 मई को हेमकुंड साहिब के कपाट खोले जाने हैं।

इस बार जनवरी से ही हेमकुंड जमी बर्फ पिघलने लगी थी। यहां तक हेमकुंड तक रास्ते में भी ज्यादातर स्थानों पर बर्फ पिघल गई थी। लेकिन, फिर फरवरी व मार्च में हुई जोरदार बर्फबारी ने हेमकुंड साहिब की फिजां ही बदलकर रख दी।

वर्तमान में हेमकुंड साहिब गुरुद्वारा व लोकपाल लक्ष्मण मंदिर बर्फ से ढके हुए हैं। घांघरिया से हेमकुंड साहिब तक का पांच किमी लंबा रास्ता भी बर्फ से अवरुद्ध है। प्रतिवर्ष सेना के जवान हेमकुंड तक बर्फ हटाने का काम करते हैं। इस बार भी 418-इंडिपेंडेंट कोर के सूबेदार मेजर गुरुनाम सिंह ने गोविंदघाट-घांघरिया का जायजा लेकर बर्फ हटाने की रणनीति पर गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के साथ बैठक की।

तय हुआ कि 25 अप्रैल से बर्फ हटाने का काम सेना के जवान शुरू करेंगे। तब तक गर्मी से बर्फ पिघलनी भी शुरू हो जाएगी। गुरुद्वारा प्रबंधक सेवा सिंह ने बताया कि हेमकुंड में अभी दस फीट मोटी बर्फ की चादर बिछी हुई है।

loading...
Previous articleभाजपा की आंख का तारा बने ‘मिश्रा’
Next articleदून पुलिस को मिली आंतकवादी घुसने की सूचना, मौके पर जाकर देखा तो…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here