उत्तरकाशी के इस गांव में एक साथ होगी चार भाइयों की शादी

0
1884
15 दिसम्बर के बाद एक महीने के लिए नहीं होगें मांगलिक कार्य
15 दिसम्बर के बाद एक महीने के लिए नहीं होगें मांगलिक कार्य

उत्तरकाशी : रवाईं घाटी का लोदन गांव 23 अप्रैल को एक साथ चार सगे भाइयों की शादी का गवाह बनेगा। चार भाइयों की बरात एक साथ निकलेगी तथा बहुओं का गृह प्रवेश भी एक ही समय पर होगा। रवाईं घाटी में एक साथ चार भाइयों की शादी का यह पहला और अनूठा समारोह होगा।

अभी तक रवाईं घाटी में एक साथ दो तथा तीन भाइयों की शादियां हुई हैं। नौगांव ब्लाक की ब्लाक प्रमुख रचना बहुगुणा बताती है कि एक साथ शादी कराने का मकसद धन और समय की बचत भी है।

उत्तरकाशी जनपद के नौगांव ब्लाक क्षेत्र में पड़ने वाला लोदन गांव जिला मुख्यालय से 140 किलोमीटर दूर है। लोदन में 65 वर्षीय आशा राम नौटियाल के चार पुत्र हैं, जिनमें संजय, अजय, अनूप और पवन हैं। इन चारों की शादी 23 अप्रैल को एक ही दिन होगी। 23 अप्रैल की सुबह को एक साथ चारों की बारात घर से निकलेगी, जो चार स्थानों पर जाएगी। चारों बहुओं का गृह प्रवेश का समय भी एक साथ होगा।

आशाराम बताते हैं कि वह तथा उनकी पत्नी उर्मिला देवी किसी भी बेटे की बारात में नहीं जाएंगी। लेकिन, जब एक साथ चारों बहुएं गृह प्रवेश करेंगी तो तब उन्हें आशीर्वाद दिया जाएगा। विवाह के लिए पूरी तैयारियां कर ली गई हैं। रिश्तेदारों को निमंत्रण भी दिया गया है।

नौटियाल कहते हैं कि अगर वह अपने चार बेटों की अलग-अलग तिथियों पर शादी करते तो उन्हें चार आयोजन कराने पड़ते। इससे उनका समय भी अधिक लगता तथा धन भी अधिक खर्च होता। दूरदराज से आने वाले रिश्तेदारों तथा मेहमानों को भी परेशानी होती।

आज लोगों के पास समय की कमी है। इसी को ध्यान में रखते हुए एक साथ चारों बेटों की शादी करने का आयोजन रखा गया। उन्होंने बताया कि चारों बेटों की उम्र में एक-दो साल का ही अंतर है और सभी शादी की उम्र में आ चुके हैं। एक साथ शादी समारोह के लिए सभी बेटे तैयार हैं।
लोदन गांव की प्रधान गुड्डी देवी बताती है कि वर्ष 2003 में उनके गांव में एक साथ तीन भाइयों की शादी हुई थी। चार भाइयों की एक साथ शादी का यह पहला आयोजन है।

इनके साथ तय हुआ है विवाह

उत्तरकाशी निवासी आशा राम नौटियाल के सबसे बड़े बेटे संजय अध्यापक हैं। संजय नौटियाल का विवाह गुंदियाट गांव निवासी सुभाष नौटियाल की पुत्री प्रियंका के साथ तय हुआ है। दूसरा पुत्र अजय पुरोहित का काम करता है। अजय का विवाह बिरोड गांव निवासी राजा राम की पुत्री सावित्री के साथ तय हुआ है।

तीसरा पुत्र अनूप दिल्ली में एक होटल में काम करता है। अनूप का विवाह सिडक निवासी राम लाल बिजल्वाण की पुत्री मीरा के साथ तय हुआ है। स

बसे छोटा तथा चौथा बेटा पवन सेना में है। पवन का विवाह नौगांव, उत्तरकाशी निवासी सुमन लाल डोभाल की पुत्री पूनम के साथ तय हुआ है।

loading...
Previous articleरुद्रप्रयाग में ओलावृष्टि की चपेट में आने से ढाई सौ बकरियों की मौत
Next articleदेहरादून में फिर से ‘रिलीज’ हुई बाहुबली, जानिए कौन से थ‌ियेटरों में लगे हैं शो

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here