रसमलाई : कम लागत में घर पर ऐसे ये बनाएं स्वादिष्ट मिठाई

0
134

रसमलाई भारतीय मिठाईयों में से एक है। इसे खाते समय ऐसा लगता है की इसे बनाना बहुत ही मुश्किल होगा पर नही इसे बनाना बहुत ही आसान है। यह रसमलाई पनीर से बनाई जाती है। हो सके तो बाजार के पनीर का उपयोग ना करे, घर के बने हुए पनीर को ही उपयोग में ले। आइए देखते है कि रसमलाई बनाने के लिए हमें क्या क्या सामग्री की आवश्यकता रहेगी और इसे किस तरह से बनाया जाता है

आवश्यक सामग्री
पनीर के लिए/ छैना के लिए
1 लीटर दूध
3 से 4 बूंद नींबू रस
गाढा दूध बनाने के लिए

1 लीटर दूध
1/2 कप चीनी
1 टी.स्पून इलायची पाउडर
2 टेबल स्पून ड्रायफ्रूट

बनाने का तरीका
एक भारी तले वाली कढाई में दूध को गर्म करे। जब एक उबाल आ जाए तब उसमें नींबू रस डालकर जल्दी से चम्मच से मिलाइए। आप देखेंगे की पानी और छैना अलग हो रहा है। गैस को बंध कर लीजिए। छैना को पानी से अलग करके बाहार निकालकर धो लीजिए। पनीर को अच्छे पानी से धोकर ज्यादा पानी निकाल लीजिए। अब छैना को किसी एक प्लेट में लेकर अपने हाथ की हथेली से मसलते हुए कर दीजिए। इसे तब तक मसलते रहे जब तक इसका गोला बनाए तब वह फटे नही। रसमलाई बनाने के लिए छैना तैयार है।

इनके छोटे-छोटे गोल आकार के बोल बनाकर हल्के से हथेली से दबाकर चपटा करें। इसी तरह से सारे गोले तैयार कर लें। एक पैन में पानी उबलने के लिए रखें उसमें चीनी डाले, चीनी पूरी तरह से धूल जाए तब उसमें छैना से बनाए हुए गोले डालकर पकाएं। छैना के गोले जब दो गुनी साइज में होकर फूलकर बड़े हो जाए और नर्म हो जाए तब गैस को बंध कर दें। करीब 12 से 15 मिनिट लगते है। रसमलाई बनाने के लिए गोले तैयार है, इन्हें साइड पर रखर दे। अब रसमलाई के लिए दूध तैयार करते है।

एक पैन में दूध को उबलने के लिए रखे। धीमी आंच पर चम्मच से लगातार चलाते हुए दूध को उबलने दें। जब दूध गाढा होकर आधी मात्रा में हो जाए तब इसमें चीनी और ड्रायफ्रूट डालकर मिलाइए। चीनी धूल जाए तब गैस को बंध कर दीजिए। इसमें इलायची पाउडर डालकर मिलाइए। रसमलाई के लिए गाढा दूध तैयार है। छैना से बनाए हुए गोले बनाए हुए दूध में डालकर मिलाए। आपकी रसमलाई बनकर तैयार है। अब इसे फ्रिज में करीब 2 घंटे ठंडी होने के लिए रखे। एक बाउल में ठंडी ठंडी रसमलाई परोसे।

loading...
Previous articleपहली बार नारी निकेतन संवासिनियां करेगी मतदान
Next articleसिर्फ खूबसूरत ही नहीं बल्कि कई रोगों की दवा भी है उत्तराखंड का ये फूल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here