गाय को ‘राष्ट्रमाता’ घोषित करने वाला देश का पहला राज्य बना उत्तराखंड

0
6
गाय को 'राष्ट्रमाता' घोषित करने वाला देश का पहला राज्य बना उत्तराखंड

गाय को राष्ट्रमाता घोषित करने वाला उत्तराखंड देश का पहला ऐसा राज्य बन गया है। विधानसभा में यह बिल पास हो गया है और अब इसे केंद्र के पास अप्रूवल के लिए बढ़ाया गया है। उत्तराखंड की पशुपालन मंत्री रेखा आर्य ने उत्तराखंड विधानसभा में बिल पेश किया था। उन्होंने कहा, ‘हम सभी गाय के महत्व से वाकिफ हैं। न सिर्फ भारत बल्कि दूसरे देशों में इसका सम्मान किया जाता है।’

राष्ट्र माता घोषित करने से यदि इनकी पूजा और आराधना शुरू होती है और गोवा, मेघालय जैसे राज्यों में इनकी हत्या बंद कर दी जाएगी, तो बैल को राष्ट्रपिता घोषित कर दिया जाय ।

उन्होंने आगे कहा, ‘धार्मिक ग्रन्थों में भी, हमें गाय का उल्लेख मिलता है और कहा जाता है कि इसके शरीर 33 करोड़ देवताओं और देवताओं का वास होता है। वह कहती हैं कि अगर गाय को राष्ट्रमाता का दर्जा मिल जाता है तो इनकी सुरक्षा के लिए उचित कदम उठाए जाएंगे ताकि गोवध बंद हो सके।’

‘मंत्री ने कहा कि गाय के गोबर और गौमूत्र में औषधीय गुण भी हैं और वह एकमात्र ऐसा पशु है जो न केवल ऑक्सीजन ग्रहण करता है बल्कि ऑक्सीजन छोड़ता भी है. उन्होंने कहा कि अगर गाय को राष्ट्रमाता का दर्जा दिया जाता है तो उससे उत्तराखंड सहित देश के 20 राज्यों में लागू गोवंश सरंक्षण कानून पूरे देश में लागू होगा और उसके संरक्षण के प्रयासों को और बल मिलेगा.

रेखा की इस बात का बीजेपी और विपक्षी पार्टी कांग्रेस के कई सदस्यों ने भी समर्थन किया. हांलांकि, नेता प्रतिपक्ष इंदिरा ह्रदयेश ने कहा कि यह भी सुनिश्चित किया जाये कि राष्ट्रमाता का दर्जा देने के बाद भी गाय को अपमानित न होना पडे़ और वह कहीं इधर-उधर भूख से व्याकुल घूमती या दम तोड़ती न दिखायी दे. चर्चा के बाद, बीजेपी और मुख्य विपक्षी कांग्रेस सहित पूरे सदन ने इस प्रस्ताव को सर्वसम्मति से पारित कर दिया.

 

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here