सुनींद होयू छ झांपू बोड़ा.. ने उड़ाई उत्तराखंड सरकार की नींद

0
25

इन दिनों सोशल मीडिया पर एक गढ़वाली गीत वायरल हो रहा है, जिसके बोल कुछ इस प्रकार है…. उत्तराखंडियों जाग जावा, सुनिंदे ना अब सैवा रै…. सुनिन्द सयुं च झांपु बौड़ा, सुनिन्द स्यिंन सरकार रे…?

इस गीत उत्तराखंड सरकार की नींद उड़ा दी है। इस गाने के जरिए त्रिवेन्द्र सरकार पर तंज कसा गया है। जिसमें सरकार के विकास के नारों पर सवाल खड़े किए हैं। इस गाने के जरिए पलायन से खाली हो रहे गांव घर – घर में शराब पहुंचने, अफसरशाही से बढ़ते भ्रष्टाचार पर भी चोट की गई है।

गौरतलब है कि इससे पहले लोकगायक नरेन्द्र सिंह नेगी नौछमी नारायण और अब कथ्गा खैलूं गानों के जरिए तात्कालीन मुख्यमंत्री पर तंज कस चुके हैं। इसी क्रम में दिल्ली में रहने वाले लोकगायक पवन सेमवाल के गाने को लिया जा रहा है।

 कौन है पवन सेमवाल

टिहरी जिले के चाका पिछवाड़ा गांव के पवन सेमवाल की पिछले 14 वर्षो में गढ़वाली व हिंदी भजनों की 10 एलबम निकल चुकी हैं। फिलहाल ईस्ट विनोद नगर में दिल्ली में रह रहे पवन सेमवाल माता का दरबार और पूजा-पाठ से जुड़े हैं।

एक प्रतिष्ठित अखबार से हुई बातचीत में भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रमुख डा. देवेंद्र भसीन ने प्रदेश कार्यालय में बातचीत के दौरान कहा कि यह मामला गहरी साजिश का हिस्सा है। यह आपत्तिजनक है और इसे गंभीरता से लिया है। विधिक राय लेने के बाद मुकदमा दर्ज करवाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि यह जांच का विषय है कि इस गीत के पीछे किसका हाथ है? भसीन ने कहा कि यह वीडियो सीएम की छवि को खराब करने के लिए चलाया जा रहा है। इसमें प्रयोग की गई भाषा गंभीर, अवमानना व आपराधिक कृत्य की श्रेणी में आती है। उन्होंने कहा है कि वीडियो में दिखाए गायक ने अपनी स्थिति साफ की है। ऐसे में यह षड्यंत्र की गंभीरता को भी दर्शाता है। कार्रवाई की संभावनाओं पर विचार हो रहा है। हालांकि सरकार के स्तर पर इस मामले में कोई प्रतिक्रिया सामने नहीं आई है।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here