उत्तराखंड में दर्दनाक बस हादसा, अब तक 45 लोगों की मौत

0
27

उत्तराखंड में कोटद्वार के धुमाकोट में पिपली-भौन मोटर मार्ग पर एक बस खाई में गिर गई है। जिला आपदा कंट्रोल रूम ने हादसे में 45 लोगों के मरने की पुष्टि की है। वहीं राहत बचाव के लिए एसडीआरएफ की टीम भी पहुंची है। रविवार की सुबह आठ बजकर 45 मिनट पर कोटद्वार में नैनीडांडा ब्लॉक में पिपली-भौन मोटर मार्ग पर एक प्राइवेट बस (यूके 12सी 0159) खाई में गिर गई।

जानकारी के मुताबिक बस भौन से रामनगर जा रही थी और ग्वीन पुल के पास अनियंत्रित होकर खाई में गिर गई। जानकारी के मुताबिक 28 सीटर इस बस में 50 से ज्यादा लोगों को भर कर ले जाया जा रहा था। हादसे में मरने वाले लोग पौड़ी और रामनगर के बताए जा रहे हैं। करीब 8 लोगों के घायल होने की सूचना है। बस सड़क से करीब 60 मीटर नीचे गदेरे ( बरसाती नाले) में गिरी है। स्थानीय लोगों और पुलिस, प्रशासन की टीम के द्वारा रेस्क्यू कार्य किया जा रहा है।

एसडीआरएफ की टीम हेलीकॉप्टर से मौके के लिए रवाना की गई। घायल लोगों को रामनगर और कोटद्वार ले जाया जा रहा है। घायलों को रेस्क्यू के लिए देहरादून के सहस्रधारा हेलीपेड से हेलीकॉप्टर भेजा गया है। एसडीआरएफ के आईजी संजय गुंज्याल ने बताया कि टीम देहरादून से रवाना हो चुकी है। गंभीर रूप से घायलों को देहरादून लाया जाएगा।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने धुमाकोट के हादसे पर संवेदना व्यक्त की है और जिला प्रशासन को तत्काल राहत बचाव कार्य के आदेश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने मृतकों के आश्रितों को दो-दो लाख रुपए और घायलों को 50 हजार रुपए का मुआवजा देने की घोषणा की है। कहा कि आवश्यक होने पर घायलों को उपचार के लिए देहरादून लाने के लिए हेलीकॉप्टर का भी प्रयोग किया जाए। वहीं राज्यपाल केके पॉल ने भी हादसे पर शोक व्यक्त किया है।

गढ़वाल कमिश्न दिलीप जावलकर ने बताया कि 20 शव निकाले जा चुके हैं और 12 घायलों को अस्पताल भेजा गया है। जिलाधिकारी नैनीताल विनोद कुमार सुमन के आदेश पर अपर जिलाधिकारी हरवीर सिंह, उप जिलाधिकारी रामनगर पारितोष वर्मा, अपर पुलिस अधीक्षक नैनीताल हरिश्चंद्र सती दुर्घटना स्थल पर के लिए रवाना हुए

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here