पशुओं को चारा देने जा रही महिलाओं ने रास्ते में देखा खून, आगे जाने पर उड़ गए होश

0
15

टिहरी जिले के जाखणीधार ब्लॉक क्षेत्र स्थित कस्तल गांव में एक शादी समारोह में शामिल होने एक महिला ससुराल से मायके के लिए निकली। जब रात तक महिला नहीं पहुंची तो परिजनों को लगा कि शायद वह शादी में नहीं आ रही होगी, इधर ससुराल वाले ये सोचकर निश्चित थे कि बहू मायके पहुंच गई होगी और शादी में शरीक हुई होगी लेकिन अगली सुबह जो दिखा उसे देखकर सबके पैरों तले जमीन खिसक गई।

सुबह कुछ महिलाएं पशुओं को चारा देने छानी जा रही थी, तभी उन्हें रास्ते में खून दिखा, साथ ही बाल और कपड़े के टुकड़े भी दिखे, उन्होंने ग्रामीणों को खबर की, जब लोगों ने खून के धब्बों का पीछा किया तो महिला का अधखाया शव बरामद हुआ।

जानकारी के अनुसार कस्तल गांव की 56 वर्षीय महिला बिछना देवी पत्नी भगवान सिंह गत बुधवार शाम करीब छह बजे शादी समारोह में शामिल होने के लिए अपने मायके मन्दार गांव की ओर जा रही थी। म्योन्डी गांव के पास गुलदार ने महिला पर हमला कर दिया। गुलदार महिला को घसीटकर लगभग काफी दूर ले गया। सुबह ग्रामीणों को महिला का शव मिला। घटना की सूचना पर गुरुवार को घनसाली पुलिस मौके पर पहुंची। शव का पंचनामा भरकर शव परिजनों को सौंप दिया गया है। घटना की सूचना पर पहुंचे डीएफओ टिहरी डा. कोको रोसे, रेंज अधिकारी एमएस डिमरी के समक्ष ग्रामीणों ने घटना पर आक्रोश जताया।

ग्रामीणों का कहना था कि पहले भी गुलदार ने एक बालिका को मारा था। उन्होंने हमलावर गुलदार को शीघ्र पकड़ने की मांग की। जिला पंचायत सदस्य परमवीर पंवार ने कहा कि क्षेत्र में गुलदार दो माह में कई मवेशियों को अपना निवाला बना चुका है, लेकिन वन विभाग द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। डीएफओ ने कहा कि कस्तल गांव में हमलावर गुलदार को पकड़ने के लिए विभाग द्वारा पिंजरा लगाया गया था। लेकिन गुलदार पकड़ में नहीं आया। गुलदार को पकड़ने के लिए एक और पिंजरा लगाया जा रहा है। निगरानी के लिए वन विभाग की एक टीम को भी तैनात कर दिया गया है। वन विभाग ने महिला के परिवार को तात्कालीन आर्थिक सहायता के तौर पर 80 हजार रुपए दिए हैं।

 

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here