नहीं रहे स्कूटर से विधानसभा जाने वाले विधायक मगन लाल शाह

0
9

साभार : संजय चौहान

सादगी ऐसी की विधानसभा में बिना लाव लश्कर के स्कूटर से पहली बार 17 सालों में कोई विधायक पहुंचा था। वे कोई ओर नहीं बल्कि थराली के विधायक मगन लाल शाह जी थे। अब ऐसी सादगी शायद ही कभी देखने को मिले। बेहद मृद्धभाषी, सौम्य, सरल और साधारण व्यक्तिव के धनी थराली विधायक मगन लाल शाह का असमय यों ही चले जाना बेहद दुखदाई है।

नलगांव निवासी सर्राफा व्यापारी और ए ग्रेड के ठेकेदार रहे मगन लाल शाह का जीवन बेहद संघर्षमय रहा है। 10 वीं तक पढ़ें मगन लाल शाह को भुवन चंद्र खंडूरी वर्ष 1993- 94 में राजनीति में लाये। वर्ष 2002 और फिर 2007 में बीजपी से टिकट मंगा लेकिन पार्टी ने गोविंद लाल शाह को टिकट दिया। 2007 में मगन लाल शाह ने बगावत करके यूकेडी से चुनाव लड़ा और हार गये।

वर्ष 2008-9 में नारायणबगड़ विकासखण्ड के ब्लॉक प्रमुख बने। वर्ष 2012 के विधानसभा चुनाव में बीजपी के टिकट पर चुनाव लड़े लेकिन कांग्रेस के उम्मीदवार डॉ जीतराम से महज 400 वोट के अंतर से चुनाव हार गए इसके बाद हुए 2014 के चुनावो में उनकी धर्मपत्नी मुन्नी देवी शाह चमोली की जिला पंचायत अध्यक्ष बनी। वर्ष 2017 के विधानसभा सभा चुनावों में एक बार फिर भाजपा ने मगन लाल शाह को थराली विधानसभा से टिकट दिया और लगभग 4300 के भारी अंतर से अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी डॉ जीतराम को हराकर विधानसभा पहुंचने में सफलता प्राप्त की। चुनाव जीतने के बाद स्कूटर से जब वे विधानसभा पहुँचे थे तो उनकी सादगी का पूरा देश कायल हो गया था।

देहरादून के हिमालयन हॉस्पिटल जौलीग्रांट में भर्ती थराली के विधायक मगनलाल शाह का देर रात निधन हो गया। करीब 10:25 बजे उन्होंने अंतिम सांस ली। गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों से जौलीग्रांट हॉस्पिटल में उनका इलाज चल रहा था। प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत सहित कई मंत्री व विपक्ष के नेता उनका हालचाल जानने हिमालयन हॉस्पिटल मैं आ चुके थे।

मगन लाल शाह जी की असमय मृत्यु से चमोली जनपद में शौक की लहर दौड़ पडी है। उनका यों ही चले जाना दुःखद है। भगवान दुःख की इस घड़ी में शोकाकुल परिवार की मदद करें।

 

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here