उत्तराखंड के मंदिरों में कुछ यूं दिखी महाशिवरात्रि की धूम

0
23
उत्तराखंड के मंदिरों में कुछ यूं दिखी महाशिवरात्रि की धूम....
उत्तराखंड के मंदिरों में कुछ यूं दिखी महाशिवरात्रि की धूम....

देहरादून : आज पुरे देश में महाशिवरात्रि बड़ी धूम धाम से मनाई जा रही है और लोग मंदिरों में जाकर शिवलिंग का अभिषेक कर रहे हैं। ऐसा ही नजारा उत्तराखंड के मंदिरों में भी देखने को मिला है यहां मध्य रात्रि से ही महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर तमाम शिवालयों में शिव का जलाभिषेक शुरू हो गया और चारों तरफ ‘हर-हर महादेव’ और ‘बम-बम भोले’ के उद्घोष की गूंज रही। महाशिवरात्रि पर शिवालयों को रंग-बिरंगी लाइटों से सजाया गया है।

देहरादून में रात्रि 12 बजे महादेव का महा रुद्राभिषेक किया गया । इसके बाद केसरयुक्त दूध भोग के बाद श्रद्धालुओं में वितरित किया गया । जलाभिषेक के लिए पुरुषों व महिलाओं की अलग-अलग लाइनों की व्यवस्था की गई है।

देहरादून के साथ-साथ विकासनगर, ऋषिकेश व गांव – गांव से भी मध्य रात्रि से श्रद्धालु मंदिरों में पहुंचने शुरू हो गए हैं । महाशिवरात्रि के अवसर पर मंदिर परिसरों में मेले की तैयारियां भी पूरी हो चुकी हैं।

आज शिवरात्रि है या कल 14 फरवरी को

पूजा के बाद भी लोगों में उलझन है कि आज शिवरात्रि है या कल 14 फरवरी को। दरअसल शिवभक्तों का सबसे बड़ा त्योहार महाशिवरात्रि माना जाता है। इस त्योहार का भक्तगण पूरे साल इंतजार करते हैं और महाशिवरात्रि के दिन सुबह से ही शिव मंदिरों में जुटने लगते हैं। शिवभक्तों के लिए इस साल बड़ी उलझन की स्थिति बनी हुई है कि महाशिवरात्रि का त्योहार किस दिन मनाया जाएगा।

ऐसी स्थिति इसलिए बनी हुई है क्योंकि महाशिवरात्रि फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी तिथि को मनाई जाती है। 13 जनवरी को पूरे दिन त्रयोदशी तिथि है और मध्यरात्रि में 11 बजकर 35 मिनट से चतुर्दशी तिथि लग रही है। जबकि 14 फरवरी को पूरे दिन और रात 12 बजकर 47 मिनट तक चतुर्दशी तिथि है।

ऐसे में लोग दुविधा में हैं कि महाशिवरात्रि 13 फरवरी को मनेगी या 14 फरवरी को। चतुर्दशी तिथि दूसरे दिन निशीथ काल में कुछ समय के लिए हो और पहले दिन सम्पूर्ण भाग में हो तो पहले दिन ही यह व्रत करना चाहिए।

 

 

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here