वित्तीय गड़बड़ी के दोषी पाए गए पौड़ी नगर पालिका अध्यक्ष, वित्तीय अधिकार सीज

0
11
यशपाल बेनाम : नगर पालिका अध्यक्ष पौड़ी

वित्तीय अनियमितताओं के आरोप में पौड़ी नगर पालिका के अध्यक्ष यशपाल बेनाम के वित्तीय अधिकार सीज कर दिए हैं। प्रदेश सरकार ने बेनाम पर लगे आरोपों को सही पाए जाने के बाद यह फैसला लिया है।  बेनाम पर नगर पालिका के  अलग-अलग कार्यों में वित्तीय अनियमितता के  आरोप थे, जो जांच के बाद सही पाए गए। सरकार ने फिलहाल पौड़ी जिले के जिलाधिकारी को नगर पालिका के कार्यों से संबंधित सभी वित्तीय अधिकार सौंपे हैं। शहरी विकास सचिव राधिका झा ने इसको लेकर आदेश जारी किया। पूर्व विधायक रह चुके बेनाम के खिलाफ नगर पालिका के सभासदों ने ही शिकायत की थी। सभासदों की शिकायत का संज्ञान लेते हुए कमिश्नर ने जांच रिपोर्ट की आख्या शासन को दी। शासन ने बेनाम को कुल सात आरोपों के मामले में नोटिस भेजा था। जांच के बाद इन सात में से तीन आरोप सही पाए गए।

नगर पालिका अध्यक्ष पर आरोप था कि उन्होंने नगर पालिका के गेस्ट हाउस को  बिना प्रक्रिया का पलान किए ध्वस्त कराया और उसकी सामग्री बेच दी। इस आरोप को सही पाया गया। जांच में पाया गया  बेनाम ने इसके लिए बोर्ड के आवश्यक अनुमति नहीं ली। इसके अलावा बेनाम इस बात के लिए भी दोषी पाए गए कि उन्होंने साल 2014 में शरदोत्सव के लिए पालिका फंड से जो राशि जारी की, उसके लिए बोर्ड से अनुमति लेना उचित नहीं समझा।

बेनाम पर एक आरोप पालिका निधि से साल 2013-14 में ग्रीष्मोत्सव के आयोजन पर 15 लाख रुपये की अनियमितता का भी था। जांच में पाया गया कि उन्होंने बगैर इजाजत ग्रीष्मोत्सव के आयोजन को पालिका निधि से 15 लाख खर्च किए। पालिका फंड से जारी की गई इस राशी के लिए सक्षम अधिकारी से अनुमोदन नहीं लिया गया। सबसे अहम बात यह पाई गई कि इस धनराधि का समायोजन किसी भी मद में नहीं दर्शाया गया।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here