उत्तराखंड की बेटी ने बैंकॉक में झटका सोना

0
22
उत्तराखंड की बेटी ने बैंकॉक में झटका सोना

काल्जिखाल की ऋतु नेगी ने ताईक्वांडो इंटरनेशनल चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीता

देहरादून : पहाड़ की बेटियां मौक़ा मिलने पर अपने हुनर से न सिर्फ भारत बल्कि विश्व पटल पर भी देवभूमि का नाम रोशन कर रही हैं। खेल की दुनिया हो या फिल्म की अब हर जगह पहाड़ की बेटियाँ अपने झंडे गाढ़ रही हैं। अनुष्का शर्मा, अनुकृति गुसाईं , उर्वशी रौतेला ने जहाँ फ़िल्मी दुनिया में कामयाबी हासिल कर उत्तराखंड का नाम रोशन किया है वहीं खेल की दुनिया में भूमिका शर्मा मनराल,एकता बिष्ट और मानसी जोशी के बाद अब पौड़ी जिले की ऋतू नेगी ने ताईक्वांडो इंटरनेशनल चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीत कर न सिर्फ उत्तराखंड बल्कि पूरे देश का नाम रोशन कर दिया है।

जानकारी के मुताबिक पौड़ी जिले के काल्जिखाल विकासखंड के  नौली गांव की ऋतु नेगी ने बैंकाक में पांच अगस्त को तृतीय हीरो ताईक्वांडो इंटरनेशनल चैंपियनशिप में पाकिस्तान, नेपाल और थाईलैंड के खिलाड़ियों को मात देकर गोल्ड झटकर देश का मान बढ़ाया है। उसकी जीत पर गांव में खुशी का माहौल बना हुआ है।

ऋतू का जन्म नौली गांव के कुलदीप सिंह नेगी और कुसुम नेगी के घर में दो सितंबर 1996 को हुआ।  पांच साल की उम्र में  ऋतु अपने  माता-पिता के साथ दिल्ली में रहने लगी। जहाँ महज 10 साल  की उम्र में  ही उनका आत्म रक्षा के खेल ताईक्वांडो के प्रति रुझान बढ़ा।

ऋतु के इस जुनून ने ही आज देश को ताईक्वांडो में गोल्ड मेडल दिलाकर पौड़ी का नाम विश्व पटल सुनहरे अक्सरों में दर्ज कर दिया है। थाईलैंड के बैंकाक शहर में इन दिनों तृतीय हीरो ताईक्वांडो इंटरनेशनल चैंपियनशिप का आयोजन हो रहा है। जिसमें पांच अगस्त की शाम 53 किलो भार में भारत की ओर से ऋतु नेगी ने पाकिस्तान, नेपाल व थाईलैंड के खिलाड़ियों को मात देकर देश के लिए गोल्ड मेडल जीता।

पिता कुलदीप सिंह नेगी ने बताया कि ऋतु बचपन से ही पढ़ाई व खेल के प्रति विशेष रुचि रखती थी। जब उसने पहली बार ताईक्वांडो खेल के प्रति अपनी इच्छा जाहिर कि, तो थोड़ा सोचने के बाद सहर्ष स्वीकृति दे दी थी। उन्होंने कहा कि ऋतु की मेहनत पर मुझे ही नहीं पूरे देश को गर्व है।

 

यहाँ भी झटका सोना

दिल्ली विवि स्तर पर – 1 गोल्ड

राज्य स्तर दिल्ली –1 गोल्ड

राष्ट्रीय स्तर पर –3 गोल्ड, 2 सिल्वर मेडल

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here