चीन से टक्कर करने को तैयार पहाड़ की ये बहादुर बेटियाँ

0
32

हल्द्वानी : बार्डर पर हिन्दुस्तान व चीन के बीच चल रही तनातनी व चीनी प्रधानमंत्री के हाल में ही सीमा से सेना हटा लेने के लिए भारत को दिये गये बयान के बाद देश के नागरिकों में चीन के प्रति गुस्से का माहौल है। चीन के दिये गये विवादित बयान के बाद देश भर में जहां कई संगठनोे ने चीन के प्रति प्रदर्शन कर व लोगो से चीन निर्मित माल का बहिष्कार करने की अपील की थी।

नया बाजार में जब राखी खरीद रही  पूजा अग्रवाल से पूछा गया कि चीन भारत सीमा पर लागातार गोलीबारी कर दहशत फैलाने का प्रयास कर रहा है। क्या वे ऐसे माहौल में भी चीन निर्मित राखी खरीदना पंसद करेगी तो पूजा ने तत्काल उत्तर देते हुए कहा कि चीन निर्मित राखियाँ  सस्ती जरूर है लेकिन आज के माहौल में वे चीन निर्मित राखियाँ हरगिज नहीं खरीदेगी।

ये भी पढ़े : केदारनाथ में नरकंकाल मिलने का सिलसिला जारी, फिर फैली दहशत

उन्होंने कहा कि उनका प्रयास होगा कि  वे चीन निर्मित समान के बहिष्कार करने के लिए अन्य युवतियों को भी प्रेरित करेगी। वही रामपुर रोड निवासी शीतल मेहरा का कहना था कि यदि उन्हें मौका मिला तो वे सीमा पर चीन के साथ दो-दो हाथ करना चाहेगी। कालाढूंगी चौराहे निवासी लक्ष्मी बिष्ट का कहना था कि चीन निर्मित समान का विरोध कर ही चीन की कमर तोड़ी जा सकती है। इसी क्रम में कुसुमखेड़ा निवासी किरन बिष्ट का कहना था कि राखी  हिन्दुस्तान का त्यौहार है ऐसे में हम विदेश निर्मित राखियां खरीद कर भाई बहन के पावन पर्व का हरगिज अपमान नही करना चाहेगी।

दूसरी तरफ आवास विकास की रहने वाली ममता का कहना था कि हर बहन को चाहिए की वह स्वदेशी राखी खरीद कर देश की तरक्की में भागीदार बने इसी तरह श्रृष्टि भारती ने भी स्वदेशी राखी को अपनी पसंद बताते हुए कहा कि इस बार भाईयों की कलाई पर कलावा बाधंकर उनकी दीर्घायु की कामना करूंगी। कुल मिलाकर चीन के खिलाफ बहनो की आंखो में भी गुस्सा साफ नजर आ रहा था।

ये भी पढ़े :गर्भवती महिला को कुर्सी पर बैठकर 17 किलोमीटर का पैदल सफ़र तय किया पति ने

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here