सड़क टूटने से बढ़ी प्रभावित ग्रामीणों की मुश्किलें

0
12

देहरादून: बादल फटने से तबाह हुए देहरादून के सिल्ला गांव का राजधानी देहरादून से संपर्क कट गया है। सड़क टूटने से ग्रामीणों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। ग्रामीणों के सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है। फिलहाल ग्रामीणों ने अपने- अपने रिश्तेदारों के घर शरण लेकर किसी तरह रातें काट रहे हैं, लेकिन उनके सामने सबसे बड़ी समस्या रोड ध्वस्त होने से हो रही है। उन्होंने सरकार से गांव के सड़क मार्ग को शीघ्र खोलने की गुहार लगाई है।

बता दें कि गत 10 जुलाई के देहरादून से कुछ ही दूर सिल्ला गांव में बादल फटने से पूरा गांव तबाह हो गया था। गनीमत यह रही है कि इस तबाही में किसी जानमाल की हानि नहीं हुई। पूरा गांव भूस्खलन से आए मलबे से पट गया। किसी तरह ग्रामीणों ने गांव से निकल कर आस-पास के रिश्तेदारों के घर शरण ली। गांव के दर्जनों ग्रामीण खौफजदा हैं, वह गांव में जाने से कतरा रहे हैं। हालांकि इसमें स्थानीय प्रशासन इस दिशा में मद्द में जुटा है।

ग्रामीणों का कहना है कि उनकी खेती पूरी चौपट हो गई है। उनके मकान मलबे से अटे पड़े हैं। उनका लाखों का नुकसान हो गया है। खेती चौपट होने से उनके सामने रोजी-रोटी का संकट पैदा हो गया है। हालांकि कल सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने खुद गांव का दौरा करके प्रभावितों की सुध ली। इस दौरान उन्होंने संबंधित अधिकारियों को गांव के पुनर्वास की रिपोर्ट को 24 घंटे के अंदर प्रस्तुत करने के जिलाधिकारी देहरादून को निर्देश दिए हैं। गांव को जोड़ने वाली सड़क भी पूरी तरह ध्वस्त हो चुकी है, जिसे ग्रामीणों को राहत पहुंचाने में प्रशासन को भी भारी कठिनाईयों का सामना करना पड़ रहा है।

सीएम ने लोनिवि के अधिकारियों को जल्द से जल्द सड़क मार्ग को खोलने के निर्देश दिए हैं। ग्रामीणों का कहना है कि उनके बच्चे स्कूल भी नहीं जा पा रहे हैं। उनका सारा सामाना घर के अंदर दब गया है। यदि जल्द मलबा नहीं हटाया गया, तो मकानों को भी खतरा होने की संभावना है। उन्होंने मुख्यमंत्री से राहत कार्यों में तेजी की गुहार लगाई है।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here