स्विस बैंक में भी है ‘शर्मा’ की काली कमाई

0
8
  • यूपी निर्माण निगम के जीएम की अर्जित करीब 700 करोड़ की अकूत संपति देख आयकर विभाग के अधिकारी भी हैं हैरान
  • करीब 100 एकड़ का आलीशान फार्म हाउस, एशोआराम के लिए रेंजरोवर, ऑडी और बीएमडब्ल्यू जैसी लक्जरी गाड़ियां
  • हाल ही में 60 बीघा जमीन खरीदने की डील संबंधी कागज लगे हाथ, छुट्टियां मनाने शर्मा और उनके परिवार के सदस्य जाते हैं विदेश घूमने
  • कई शहरों में है शिव आश्रय शर्मा के करोड़ों के प्लाट, सफेदपोश नेताओं के पेसों को भी करता था जमीनों में इनवेस्ट

देहरादूऩ़: उत्तर प्रदेश राज्य निर्माण निगम के महाप्रबंधक शिव आश्रय शर्मा के घर और फार्म हाउस पर इनकम टैक्स विभाग की छापेमारी के बाद कई चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। छापेमारी के दौरान आयकर विभाग को जो जानकरियां हाथ लगी है वह होश उड़ाने वाले हैं। मोटे अनुमान के मुताबिक शर्मा के पास तकरीबन 600 से 700 करोड़ की अकूत संपत्ति है। ये सारी संपत्ति शर्मा ने उत्तराखंड की निर्माण योजनाओं से काली कमाई करके एकट्ठा की है। टीम को मिले दस्तावेजों में यह भी खुलासा हुआ है कि शर्मा कई सफेदपोश नेताओं के पेशे भी इनवेस्ट करता था।

विकासनगर स्थित शर्मा के 100 एकड़ में फैले फार्म हाउस में जब आयकर विभाग की टीम ने छापा मारा तो वहां कई चौंकाने वाले दस्तावेज हाथ लगे। वर्ष 2015 में औद्योगिक क्षेत्र सेलाकुई में बेटे के नाम पर पांच बीघा जमीन खरीदी गई। इस जमीन पर लगभग 1500 स्क्वायर फीट में एक अत्याधुनिक जिम बना हुआ मिला। जबिक गेस्ट हाउस औरा स्वीमिंग पुल का निर्माण अभी भी जारी है।

चौंकाने वाली बात यह है कि फार्म हाउस में छापेमारी के दौरान पांच-पांच लाख रूपये तक की महंगी 15 एलईडी और विभिन्न कंपिनयों के महेंगे फर्नीचर मिले। यही नहीं रेंजरोवर, ऑडी, बीएमडब्ल्यू जैसी कारें देखकर भी टीम की आंखें भौंचक्की रह गई। यही नहीं अधिकारियों को मिले रिकार्ड में छुट्टियों में शर्मा और उनके परिवार के सदस्यों के अक्सर छुट्टियों में विदेश जाया करते थे। कई अन्य शहरों में भी शर्मा की करोड़ों रूपये की जमीनें खरीदी गई है। बेटे के लिए हाल ही में करीब एक करोड़ की बीएमडब्ल्यू कार खरीदी है।

खास बात यह है कि करीब 100 एकड़ में फैले फार्म हाउस वाले एसए शर्मा 60 बीघा जमीन और खरीदने के दस्तावेज मिले हैं। यह जमीन एनआरआई से तकरीबन 11 करोड़ रूपये में खरीदने की डीलिंग चल रही थी। शर्मा की यह हसरत पूरी नहीं हो सकी, लेकिन वह इसके लिए काफी बड़ी रकम एडवांस में दे चुका था। आयरकव विग ने कार्रवाई करते हुए दो लॉकरों को सीज कर दिया है। दिलचस्प बात यह है कि परिजन आईटीआर तो दाखिल कर रहे हैं, लेकिन इनकम स्रोत नहीं दिखा सके। आयकर सूत्रों की मानें तो शर्मा ने करीब 700 करोड़ से अधिक की बेनामी अघोषित संपति जुटाई है। बेनामी संपति के लिए शर्मा के खिलाफ मुकदमा दर्ज होगा। टीम को यह संकेत मिले हैं कि शर्मा का स्विस बैंक में भी एकाउंट हो सकता है, इसकी भी पड़ताल की जा रही है। सवाल यह है कि एक निर्माण एजेंसी के जीएम शर्मा ने पास इतनी अकूत संपति कैसे अर्जित की है, इस दिशा में कार्रवाई चल रही है।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here