बैसाखी के पर्व पर श्रद्धालुओं ने गंगा में लगाई आस्था की डुबकी

0
7

बैसाखी के पावन पर्व के मौके पर बृहस्पतिवार को तीर्थ नगरी हरिद्वार में भक्तों ने आस्‍था की डुबकी लगाई। 13 अप्रैल को मेष राशि पर सूर्य संक्रमण रात्रि 1.50 मिनट पर विशाखा नक्षत्र कालीन मकर लग्न में होगा।

ज्योतिषों के अनुसार संक्रांति का पुण्यकाल 14 अप्रैल को भी रहेगा। यानी दोनों दिन बैसाखी का पर्व मनाया जा सकेगा। वहीं बैसाखी के दिन पड़ने वाले वार को वर्ष का मंत्री माना जाता है।

इस हिसाब से बृहस्पतिवार वर्ष का मंत्री रहेगा, जबकि नवरात्र के पहले दिन पड़ने वाले वार को वर्ष का राजा माना जाता है। इसके अनुसार वर्ष का राजा मंगल है।

बैसाखी पर्व की पूर्व संध्या पर देश के विभिन्न भागों से लाखों श्रद्धालु गंगा स्नान के लिए पहुंचे। वैशाखी स्नान प्रात: चार बजे से प्रारंभ हुआ जो सूर्यास्त होने तक चलता रहेगा।
आने वाले श्रद्धालुओं में पंजाब, उत्तर प्रदेश, दिल्ली और जम्मू कश्मीर के यात्रियों की संख्या सबसे अधिक है। हरकी पैड़ी से सटे क्षेत्रों में स्नान के विशेष प्रबंध किए गए हैं। बुधवार को सायंकालीन आरती में भी भारी भीड़ उमड़ी।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here