उत्तराखंड में पहाड़ों ने ओढ़ी सफेद चादर, फिर बढ़ी ठिठुरन

0
16

पहाड़ों की रानी मसूरी ने शनिवार को बर्फ की चादर ओढ़ ली। यही नहीं, चारधाम बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री व यमुनोत्री के साथ ही अन्य चोटियों पर भी हिमपात का सिलसिला जारी है।

निचले इलाकों में कहीं हल्की तो कहीं ठीकठाक बौछारें पड़ीं। मौसम के इस रुख के चलते ठंडक में इजाफा हो गया है। यही नहीं, पर्वतीय क्षेत्रों में दुश्वारियां भी बढ़ गई हैं। वहीं, मौसम विभाग की मानें तो रविवार को होली पर भी राज्य में कुछ जगह हल्की वर्षा और दो हजार मीटर व इससे अधिक ऊंचाई पर बर्फ गिरने की संभावना है।

मौसम की बदली करवट के साथ ही सात मार्च की देर शाम से राज्य में बर्फबारी और वर्षा का क्रम बना हुआ है। चारधाम के अलावा औली, हेमकुंड सहिब, पांडुकेश्वर, गोपेश्वर से लगी पहाडिय़ां, सुक्की टॉप, हर्षिल, झाला, रैथल, बार्सू, खरसाली, फूलचट्टी, जानकीचट्टी, राड़ी टॉप, चौरंगी, गंगनानी, भटवाड़ी, द्वारी, पाई, पिलंग, भुक्की, हुर्री, अदवाणी, मांडाखाल, कंडोलिया, बुआखाल, नागदेव, खिर्सू, दूधातोली, पीठसैण, रांसी, थलीसैण समेत अन्य चोटियों पर शनिवार को भी हिमपात होता रहा। मसूरी में भी बर्फबारी हुई और शाम को तो दो इंच तक बर्फ गिरी।

उत्तराखंड के पहाड़ों में बर्फबारी और मैदानी इलाकों में बारिश, देखें तस्वीरें
यही नहीं, शुक्रवार रात कुछ इलाकों में जोरदार बौछारें पड़ीं, जबकि शनिवार को कहीं हल्की तो कहीं ठीकठाक बारिश हुई। बारिश-बर्फबारी के कारण ठिठुरन बढऩे के साथ ही पारा नीचे लुढ़का है। तापमान में तीन से 12 डिग्री सेल्सियस तक की गिरावट दर्ज की गई है। आसमान में बादल बने हुए हैं और मौसम विभाग ने अभी इनके बरसने की संभावना जताई है।

-चमोली में औली मोटर मार्ग कंवाण बैंड के पास बर्फबारी से अभी भी बंद
-गंगोत्री हाईवे गंगनानी व यमुनोत्री हाईवे फुलचट्टी से आगे चल रहा बाधित
-लगातार हिमपात के कारण बंद मार्गों को खोलने में लोनिवि व बीआरओ को आ रही दिक्कतें
यह भी पढ़ें: अब उत्तराखंड के डाकघरों से मिलेगी मौसम की जानकारी

रविवार का का पूर्वानुमान

मौसम विज्ञान केंद्र, देहरादून के निदेशक विक्रम सिंह के अनुसार पश्चिमी विक्षोभ का असर अभी बना रहेगा। इसके चलते रविवार को भी राज्य में कुछ स्थानों पर वर्षा एवं बर्फबारी की संभावना है। बारिश व हिमपात के चलते सूबे में 20 मार्च तक ठंडक बनी रहेगी।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here