अमेरिका में भारतीयों पर हमला : वापस अपने देश जाओ कहकर सिख को मार दी गोली

0
40

न्यूयॉर्क: अमेरिका में एक अज्ञात शख्स ने 39 साल के एक सिख को उसके घर के बाहर गोली मारकर घायल कर दिया. बताया जा रहा है कि हमलावर ने गोली चलाते समय कथित तौर पर कह था- ‘अपने देश वापस जाओ.’ अमेरिकी मीडिया में छपी खबर के मुताबिक यह सिख व्यक्ति शुक्रवार को वॉशिंगटन के केंट शहर स्थित अपने घर के बाहर अपनी गाड़ी ठीक कर रहा था, तभी वहां एक अज्ञात व्यक्ति आ गया.

पुलिस का कहना है कि दोनों व्यक्तियों के बीच कहासुनी हुई. पीड़ित का कहना है कि संदिग्ध व्यक्ति ने ‘अपने देश वापस जाओ’ जैसी बातें कही थी जिसके बाद उसने पीड़ित की बाजू में गोली मार दी. पीड़ित के अनुसार हमलावर छह फुट लंबा एक श्वेत आदमी था और उसने अपने चेहरे के निचले हिस्से को एक नकाब से ढका हुआ था.

केंट पुलिस प्रमुख ने कहा कि सिख व्यक्ति को हालांकि कोई ‘जानलेवा चोट नहीं आई’ है लेकिन वे ‘इसे एक बेहद गंभीर घटना के तौर पर देख रहे हैं.’ रिपोर्ट में कहा गया कि केंट पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है और इसके लिए एफबीआई और अन्य कानून प्रवर्तन एजेंसियों से संपर्क किया है.

सुषमा स्वराज ने इस मामले में ट्वीट करके जानकारी दी है कि उन्होंने पीड़ित के पिता से बात की है. उन्होंने लिखा – ‘भारतीय मूल के अमेरिकी दीप राय पर हुए हमले के बारे में जानकर दुख हुआ. मैंने पीड़ित के पिता सरदार हरपाल सिंह के पिता से बात की है. उन्होंने बताया कि उनके बेटे को कंधे पर गोली लगी है, वह अस्पताल में है और खतरे से बाहर है.’

गौरतलब है कि अमेरिका के कनसास में कुछ दिन पहले एक भारतीय इंजीनियर की हत्या का मामला सामने आया था. हमलावर ने श्रीनिवास नाम के भारतीय और उसके दोस्त आलोक मदसानी पर गोली चलाते हुए कहा था कि ;मेरे देश से निकल जाओ.’ इसके बाद शनिवार को एक और खबर आई. बताया गया कि भारतीय मूल के व्यवसायी हर्निश पटेल की उनके साउथ कैरोलीना के घर के बाहर गोली मारकर हत्या कर दी गई है. हालांकि पुलिस ने कहा था कि यह ‘घृणा अपराध’ से जुड़ा मामला नहीं लग रहा.

पिछले महीने अमेरिका के कनसास में भारतीय इंजीनियर श्रीनिवास कुचिभोटला की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. हत्यारे ने गोली मारने के दौरान चिल्लाकर कहा था ‘मेरे देश से निकल जाओ.’ इस हमले की कड़ी निंदा की गई थी और इसे घृणा अपराध की श्रेणी में रखा गया था. अमेरिका में विरोधी पार्टियों ने ट्रंप प्रशासन पर रंगभेद को उकसाने का आरोप भी लगाया.

श्रीनिवास के साथ साथ उनके दोस्त आलोक मदसानी पर भी गोली चलाई गई थी लेकिन वह बाल बाल बच गए थे. इन दोनों को बचाने के लिए एक अमेरिकी ईयान ग्रिलोट सामने आए थे लेकिन उन्हें भी गोली का शिकार होना पड़ा. हालांकि उन्हें बचा लिया गया था. अमेरिकी कांग्रेस ने कंसास में एक भारतीय की हत्या को लेकर एक मिनट का मौन भी रखा.

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here